भारत सरकार का बड़ा फैसला, 15 दिसंबर से शुरू होंगी International Flights

0
960

अंतरराष्ट्रीय उड़ान भरने वाले यात्रियों के लिए एक अहम खबर है। दरअसल 15 दिसंबर से नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानें दोबारा शुरू की जाएंगी।

न्यूज़ एजेंसी ए एन आई के मुताबिक नागर विमानन मंत्रालय ने जानकारी देते हुए बताया है कि 15 दिसंबर से नियमित इंटरनेशनल फ्लाइट दोबारा शुरू की जाएंगी। दरअसल पिछले साल मार्च महीने से कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप के कारण नियमित अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर प्रतिबंध था।

मगर अब कोरोनावायरस के मामलों में गिरावट के चलते दोबारा से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू करने पर विचार किया गया है। वैक्सीनेशन की रफ्तार तेज होने के साथ ही एयर बबल सिस्टम के अंतर्गत भारत अभी तक कुछ देशों के साथ अंतरराष्ट्रीय उड़ानों का संचालन कर रहा था।

30 नवंबर तक बढ़ा दी गई थी निलंबन की अवधि

आपको बता दें कि नागर विमानन मंत्रालय की तरफ से जारी इस आदेश के मुताबिक स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से तकरीबन 2 दिन पहले ही नागरिक उड्डयन मंत्रालय के सचिव राजीव बंसल ने जानकारी देते हुए बताया था कि इंटरनेशनल फ्लाइट्स सर्विसेस को बहुत ही जल्द सामान्य किया जाएगा। कोरोनावायरस की दूसरी लहर के चलते मार्च महीने से ही भारत की अंतरराष्ट्रीय उड़ाने निलंबित थी। अभी कुछ दिनों पहले ही इस निलंबन को 30 नवंबर तक की अवधि तक बढ़ाया गया था।

25 देशों के साथ किया गया है समझौता

नागरिक उड्डयन मंत्रालय के सचिव राजीव बंसल ने जानकारी देते हुए बताया था कि अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को जल्द ही सामान्य स्थिति में लाया जाएगा। इसके अलावा उन्होंने आगे कहा कि भारत में इंटरनेशनल फ्लाइट्स के संचालन की खातिर 25 से ज्यादा देशों के साथ एयर बबल व्यवस्था के तहत समझौता किया है।

आपको जानकारी के लिए बता दें कि यह एयर बबल व्यवस्था दो देशों के बीच आपसी समझौते के तहत शुरू की जाने वाली उड़ान सेवा की एक वैकल्पिक व्यवस्था है। दो देशों के बीच एयर बबल समझौते के अंतर्गत दोनों देशों की उड़ान कंपनियां शर्तों के साथ इंटरनेशनल फ्लाइट का संचालन कर सकती हैं।

गौरतलब है कि पिछले हफ्ते नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिराज सिंधिया ने एक बयान देते हुए कहा था कि केंद्र सरकार इंटरनेशनल फ्लाइट सर्विसेज को बहाल करने की दिशा में प्रक्रिया का आकलन कर रही है। इसके अलावा उन्होंने कहा सरकार देश के विभिन्न हिस्सों में कोविड-19 के मामलों में आई कमी को देखते हुए उड़ान सेवाओं को सामान्य करने की दिशा में कदम उठाना चाह रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here