India

दुबई भेजने के नाम पर 4 लोगों से 2.48 लाख रुपए की ठगी, थमाया फर्जी वीजा और टिकट

विदेश भेजने के नाम पर लोगों से ठग लाखों रुपए ठग लेते हैं। इतना ही नहीं ऐसी खबरें प्रकाश में आती रहती हैं लेकिन फिर भी ऐसी ठगी की घटनाएं रुकने का नाम नहीं लेती है। ठगी का एक नया मामला गोरखपुर से प्रकाश में आया है जहां पर फर्जी वीजा और टिकट थमाकर ठगी के आरोपियों ने लाखों रुपए हड़प लिए हैं।

मामले में कैंट पुलिस ने दुबई का फर्जी वीजा और टिकट देकर ठगी करने वाली आरोपियों को सिं​घड़िया चौराहे से गिरफ्तार किया है। जिसकी पहचान पवन सिंह के तौर पर की गई है।पवन सिंह मूल रूप से बिहार के सिवान जनपद का रहने वाला है। वह कैंट इलाके के नंदा नगर गोकुलपुरम में रहकर लोगों को विदेश भेजने के नाम पर ठगी करता था।

4 लोगों को लगाई 2.48 लाख की चपत

fraud

लोगों के रुपए रखने का आरोपी पवन सिवान जिले के चार लोगों को विदेश भेजने के नाम पर उनसे तकरीबन 2.48 लाख हड़प लिए। पैसे लेने के बाद उनका मेडिकल कराकर पीड़ितों को आप खुद दुबई का फर्जी वीजा और टिकट थमा दिया। और जब दुबई जाने के लिए पीड़ित फ्लाइट पकड़नी लखनऊ हवाई अड्डे पर पहुंचे तो वहां पर उन्हें एयरपोर्ट के कर्मचारियों ने रोक लिया।

ये भी पढ़ें- जानिए दुनिया के किन देशों में मिलता है सबसे सस्ता सोना, भारत से कम दाम; लिस्ट में UAE का भी नाम

लखनऊ के हवाई अड्डे पर जब कर्मचारियों ने दुबई जाने के लिए आइए लोगों को बताया कि उनका टिकट और वीजा फर्जी है। तो ठगी का शिकार हुए लोग परेशान होने लगे। इसके बाद उन्होंने आरोपित पवन से बात की तो उसने पीड़ितों को टरकाया। इसके बाद अपने साथ हुई ठगी की पूरी जानकारी देते हुए पीड़ितों ने कैंट थाने में पवन सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है।

जमानत पर जेल से बाहर है आरोपी

आपको बताते चलें कि मामले की जानकारी देते हुए शुक्रवार को निरीक्षक, केंट शशिभूषण राय ने अपनी टीम के साथ जाकर सिंघड़िया चौराहे से पवन को गिरफ्तार किया है। स्पेक्टर कैंट ने जानकारी देते हुए बताया कि इस मामले के पहले भी साल 2022 में पवन सिंह ने सिंघड़िया में 22 लाख रुपए की लूटपाट की थी। उस दौरान उस पर लूट और गैंगस्टर का केस लगा कर उसे जेल भेज दिया गया था। फिलहाल वह अब तक जमानत पर बाहर था।

ये भी पढ़ें- कुवैत में जारी है midday break का नियम, उल्लंघन करने पर 26 कामगारों को किया गिरफ्तार

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button