India

अमेरिका भेजने के नाम पर 15 लाख की ठगी, टूरिस्ट वीजा पर एक को भेजा दुबई तो दूसरी को सौंपी फर्जी टिकट

नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने के मामले में तीन लोगों पर धोखाधड़ी और जालसाजी के मामले में मुकदमा दर्ज किया गया है। इस पूरे मामले में आरोपियों पर 15 लाख रुपए की ठगी का आरोप लगा है।

पंजाब के पठानकोट के अनेड़ गांव के रहने वाले बचन सिंह पुत्र तुलसीराम ने पुलिस को दी लिखित शिकायत में कहा है कि उनके दोनों बेटे अजय कुमार और विनित कुमार 12वीं करने के बाद भी नौकरी नहीं पा सके। ऐसे में उन्हें दोनों को विदेश भेजने का फैसला किया।

उन्होंने अपनी लिखित शिकायत ने आगे बताया कि उनके रिश्तेदार पटियाला के नजदीक स्थित सनौर में रहते हैं और उनकी उनके पास में ही लुधियाना के रहने वाले सानू कुमार की ससुराल भी है। जो वहां पर काफी आते जाते हैं।

fraud

उन्होंने लुधियाना के खन्ना स्थित बस्ती बांदला के रहने वाले सानू कुमार और उसके बेटे राकेश कुमार और पत्नी भजनों देवी के अंग्रेजों के साथ अच्छी मित्रता होने और विदेश में अच्छे संबंध बताकर अजय और विनोद कुमार को विदेश में नौकरी दिलाने का झांसा दिया।

तीन बार थमाए जाली टिकट

इसके बाद लॉकडाउन लगने के पहले उसके बेटे अजय को अमेरिका के स्थान पर टूरिस्ट वीजा पर दुबई भेज दिया। जिसके बाद उनके बेटे ने फोन पर अपने परिवार को पूरी आपबीती बताई और उन्होंने रुपयों का इंतजाम करके अपने बेटे को घर वापस बुलाया और फिर दूसरे बेटे विनोद कुमार को अमेरिका के वीजा पर और टिकट देकर उन्हें तीन बार हवाई अड्डे पर भेजा।

तीनों बार ही उनकी टिकटें जाली निकली। पीड़ित ने अपने बेटों को अमेरिका भेजने के लिए भिन्न-भिन्न खातों में 15 लाख रुपए आरोपी को दिए थे।

ठगों के खिलाफ इन धाराओं में दर्ज किया गया मुकदमा

पैसे पाने के बाद ठगी करने वाले आरोपियों ने उन्हें जाली वीजा बनवा कर दिया। इस बारे में पीड़ित ने तीनों आरोपियों को बताया और अपने पैसे वापस मां गे। पैसे मांगने के बाद आरोपी पैसे लौटाने के लिए आनाकानी करते रहे और फिर अंत में उन्होंने पैसा वापस करने से मना कर दिया।

पीड़ित की शिकायत पर थाना नंगल भूर ने तीनों आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 417, 420 और 120 बी के अंतर्गत मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस के उच्चाधिकारियों ने मामले में कड़ी कार्रवाई किए जाने के संबंध में आश्वासन दिया है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button