UAE

UAE में लागू हुआ GOLD के आयात पर नया कानून, उल्लंघन करने पर लगेगा Dh5 मिलियन तक का भारी जुर्माना

यूएई के अर्थव्यवस्था मंत्रालय ने एक नया कानून लागू किया है और ये कानून GOLD इम्पोर्ट करने को लेकर है। दरअसल, UAE ने आयातकों और रिफाइनर के लिए सोने की जिम्मेदार सोर्सिंग के संबंध में एक नई नीति की घोषणा करी है और उल्लंघन करने वालों पर Dh5 मिलियन तक का भारी जुर्माना लगाया जा सकता है।

क्या है GOLD आयात का नया कानून 

जानकारी के अनुसार, ये नयी नीति सोने की जिम्मेदार सोर्सिंग के लिए नए नियम GOLD के शोधन, देश के अंदर और बाहर सोने के उत्पादों के पुनर्चक्रण, कीमती धातुओं और रत्न व्यापार क्षेत्र में काम करने वाली कंपनियों पर लागू होंगे।

वहीं एंटी- धन शोधन विभाग, अर्थव्यवस्था मंत्रालय ने इस कानून को लेकर जानकरी दी कि “नया कानून GOLD की रिफाइनरियों, आयातकों पर लागू होगा, जो स्क्रैप सोने का सौदा करते हैं और सोने के खनन से निपटते हैं। यह नियम सभी एंटी-मनी लॉन्ड्रिंग और आतं’कवाद के वित्तपोषण (एएमएल / सीएफटी) शासन को लागू करने के यूएई के प्रयासों के हिस्से के रूप में यूएई की मुख्य भूमि और मुक्त क्षेत्रों में कंपनियों पर लागू होगा।

Chennai Airport

वर्तमान में देश में 28 कीमती धातु रिफाइनरियां चल रही हैं। वहीं इस नई नीति, जो जनवरी 2023 से लागू होगी, आर्थिक सहयोग और विकास संगठन (OECD) के मार्गदर्शन और सोने के लिए इसके संबंधित प्रोटोकॉल के अनुसार है। वहीं उन्होंने कहा कि ये नियम यूएई को क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सोने और कीमती धातुओं के निर्माण और बिक्री के लिए एक पसंदीदा गंतव्य बनने में मदद करेंगे।

ये भी पढ़ें- Gold Tips: सोना असली है या नकली, घर बैठे ऐसे करें मिनटों में पहचान: जानें क्या है आसान तरीका

Dh50,000-Dh5 मिलियन जुर्माना

नए नियमों के तहत, नियमों का उल्लंघन करने वाली कंपनियों को नए मानदंडों का पालन नहीं करने के लिए Dh50,000 से Dh5 मिलियन जुर्माना का सामना करना पड़ सकता है। उल्लंघन करने वालों को जेल की सजा भी हो सकती है।

GOLD

वहीं नए नियमों का मुख्य उद्देश्य यह स्पष्ट करना है कि GOLD कहाँ से प्राप्त किया जा रहा है। रिफाइनरियों को पता होना चाहिए कि सोना संघर्ष क्षेत्रों या उच्च जोखिम वाले देशों से नहीं आ रहा है। हम जिम्मेदार सोर्सिंग के लिए ओईसीडी मानकों को लागू करेंगे और सभी रिफाइनरियों के लिए उन्हें अपने परिसर में लागू करना अनिवार्य होगा।

उन्हें अनुपालन अधिकारियों को नियुक्त करना होगा जो केवाईसी के लिए जिम्मेदार होंगे और साथ ही उन आपूर्तिकर्ताओं को भी जान पाएंगे जिनके साथ वे काम कर रहे हैं। उसे यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक दस्तावेज लेने होंगे कि यह ग्राहक अज्ञात स्रोतों से सोना आयात नहीं कर रहा है।

अल सफी ने कहा, “इस संबंध में हमारे प्रयास अंतरराष्ट्रीय सर्वोत्तम प्रथाओं और फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) के परिणामों और सिफारिशों के अनुरूप हैं। वहीं उन्होंने ये भी कहा कि “हमने दुनिया भर के विभिन्न न्यायालयों में अलग-अलग डिग्री के लिए उचित परिश्रम के कार्यान्वयन को देखा है। यह पहली बार है कि सोने की आपूर्ति श्रृंखला की तीसरे पक्ष की समीक्षा के लिए प्रतिबद्ध किया है, जिससे वैश्विक व्यापार केंद्र के रूप में यूएई की स्थिति को मजबूत करने में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार समुदाय का विश्वास बढ़ा है।

सोने की आपूर्ति प्रणाली को मजबूत करने के लिए, विनियमों ने जोखिमों की गंभीरता को कम करने के लिए कई सहायक कदम निर्धारित किए हैं। इसमे शामिल है:

  • उचित परिश्रम प्रक्रिया में शामिल सभी व्यक्तियों के लिए एक प्रशिक्षण कार्यक्रम का प्रावधान
  • वार्षिक आधार पर सभी लेखापरीक्षित रिपोर्ट प्रस्तुत करना
  • अनुपालन कार्यों को संभालने के लिए एक कर्मचारी की नियुक्ति
  • अंतरराष्ट्रीय सर्वोत्तम मानकों के अनुसार लेखा परीक्षकों की नियुक्ति
  • लेखा परीक्षक को सभी उचित परिश्रम नियमों से अच्छी तरह परिचित होना चाहिए

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button