UAE

UAE में प्रवासियों और नागरिकों के लिए बड़ी राहत, खाद्य बिल में 15 प्रतिशत तक की कमी आने की उम्मीद

UAE में ईंधन की कीमतों की घोषणा हुई है जिसके बाद इस महीने फिर से ईंधन के कीमत में गिरावट दर्ज की गयी है। वहीं इस घोषणा के बाद संयुक्त अरब अमीरात में खाद्य सामानों की कीमतों में लगभग 15 प्रतिशत की कमी आने की उम्मीद है। माना जा रहा है कि इससे यूएई में रह रहे प्रवासियों और नागरिकों को बड़ी राहत की उम्मीद है।

जानकारी के अनुसार, संयुक्त अरब अमीरात में खुदरा ईंधन की कीमतों में जुलाई में अपने चरम से 27 प्रतिशत से अधिक की गिरावट आई है, क्योंकि यूएई ईंधन समिति ने सितंबर के लिए कीमतों में 62 फिल प्रति लीटर की कमी की घोषणा की थी। वहीं सरकार ने सितंबर के लिए बुधवार (31 अगस्त) को पेट्रोल की कीमतों में 16 फीसदी से अधिक कमी की घोषणा की है।

वहीं खुदरा विक्रेताओं ने कहा कि देश के भीतर माल परिवहन के लिए और रसद फर्मों के लिए कम लागत के रूप में उपभोक्ताओं को निश्चित रूप से ट्रिकल-डाउन प्रभाव से लाभ होगा। वहीं डॉ धनंजय दातार, अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक, अल आदिल ट्रेडिंग ने कहा कि “खुदरा विक्रेताओं और आपूर्तिकर्ताओं के लिए परिवहन लागत में कमी आएगी और इससे अंततः उपभोक्ताओं को लाभ होगा। जब जुलाई में ईंधन की कीमतें बढ़ी थीं, तो खुदरा कीमतों का पालन किया गया था। इसलिए अब ईंधन की कीमतें नीचे आ रही हैं, किराने की कीमतों में भी लगभग 15 फीसदी की गिरावट आएगी।

वहीं उन्होंने ये भी कहा कि ईंधन की कीमतों में गिरावट अर्थव्यवस्था और व्यापार में सुधार का एक बहुत अच्छा संकेत है। “इसके अलावा, ईंधन की कीमतों में कमी के बाद लोग देश के भीतर अधिक यात्रा करेंगे और इससे अधिक आर्थिक गतिविधि उत्पन्न होगी और आर्थिक विकास को गति मिलेगी,”

UAE Petrol Diesel Prices

इसी के साथ अल माया समूह के समूह निदेशक और भागीदार कमल वाचानी ने कहा कि सरकार द्वारा ईंधन की कीमतों में कमी के बाद माल ढुलाई दरों में कमी आने की उम्मीद है। वहीं उन्होंने कहा कि “देश में खुदरा ईंधन की कीमतों में कमी के साथ माल ढुलाई शुल्क में कमी आएगी और उपभोक्ताओं को इसके ट्रिकलडाउन प्रभाव से लाभ होगा। जीवन यापन की लागत को कम करने के लिए खुदरा ईंधन की कीमत में कमी एक बहुत अच्छा निर्णय था।

वहीं सेंचुरी फाइनेंशियल के मुख्य निवेश अधिकारी विजय वलेचा ने कहा कि ईंधन की कीमतों में गिरावट निस्संदेह खाद्य कीमतों के बिल में कमी लाएगी। वहीं उन्होंने ये भी कहा कि साल के अंत तक खाद्य कीमतों में 8-10 फीसदी की कमी आ सकती है। लेकिन सावधान रहें, गिरावट क्षेत्र विशिष्ट हो सकती है।

उदाहरण के लिए, यूरोप के खाद्य उत्पाद ऊंचे रह सकते हैं जबकि दक्षिण एशिया/उत्तरी अफ्रीकी उत्पादों में गिरावट देखी जा सकती है। इसी के साथ सेंचुरी फाइनेंशियल सीआईओ ने कहा कि अमेरिकी डॉलर के मुकाबले उभरती बाजार मुद्राओं के मूल्यह्रास से यूएई के ग्राहकों के लिए अतिरिक्त लागत लाभ होगा क्योंकि यूएई दिरहम को ग्रीनबैक के लिए आंका गया है।

 ये भी पढ़ें – सऊदी अरब से लखनऊ समेत भारत के इन शहरों के लिए Direct Flight की घोषणा, किराया का लिस्ट भी जारी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button