UAE

UAE: लुलु के मॉल मिलियनेयर ड्रॉ में भारतीय महिला प्रवासी की खुली किस्मत, जीत लिए 2.16 करोड़ रुपए

UAE : अबू धाबी में एक महिला भारतीय प्रवासी ने ‘दिग्गज लुलु ग्रुप इंटरनेशनल द्वारा आयोजित मॉल मिलियनेयर डिजिटल ड्रॉ में Dh1 मिलियन (2.16 करोड़ रुपए से अधिक) का इनाम जीता है।

जानकारी के अनुसार, इस साल अप्रैल से अगस्त के पहले सप्ताह में अबू धाबी और अल ऐन में भाग लेने वाले नौ लुलु मॉल में से किसी में भी Dh200 की न्यूनतम खरीदारी करने वाले दुकानदारों को भव्य ड्रॉ और अन्य साप्ताहिक पुरस्कारों में प्रवेश करने के लिए एक कूपन नंबर मिला।

खलीज टाइम्स की खबर के अनुसार, इस ड्रा में दो बच्चों की भारतीय मां सेल्वारानी डेनियल जोसेफ ने इस सप्ताह अपने 80 कूपन में से एक पर जीत हासिल की है। हालांकि, वह छुट्टी पर अपने पैतृक स्थान तमिलनाडु में थी, जब मॉल प्रबंधन ने उन्हें इस जीत की जानकारी देने के लिए फोन किया लेकिन उनका फोन नहीं मिल रहा था।

वहीं उनके पति एंटोनीसामी  को इस जीत की जानकारी दी गयी तो उन्हें बताया कि यह बहुत नाटकीय था। वहीं उन्हीने बताया कि कूपन मेरी पत्नी के मोबाइल नंबर के साथ पंजीकृत थे। उन्होने ये भी कहा कि “जब आयोजकों ने मेरी पत्नी को फोन करने की कोशिश की, तो मुझे लगता है कि भारत में बुधवार को उसका फोन नहीं मिल रहा था। मेरी पत्नी ने अपने फोन से यूएई का सिम कार्ड निकाल दिया था। सौभाग्य से, उसका व्हाट्सएप काम कर रहा था।

फोन पर उस तक पहुंचने के असफल प्रयासों के बाद, आयोजकों ने एक व्हाट्सएप कॉल करने की कोशिश की और फिर एक वॉयस नोट भेजा। सौभाग्य से उस समय वह अपना व्हाट्सएप चेक कर रही थी। वहीं दंपति को उन्हें धोखेबाजी होने का संदेह था और वे किसी भी व्यक्तिगत विवरण को साझा करने से सावधान रहे।

वहीं एंटोनीसामी ने कहा कि “हम आश्वस्त हो गए और मेरी पत्नी ने मेरा फोन नंबर साझा किया, मेरी पत्नी अभी भी भारत में है। यह भगवान का उपहार है। ये दंपति 14 साल से अबू धाबी में रह रहे हैं और हमेशा लुलु में खरीदारी करना पसंद करते हैं। वहीं उन्होने बताया कि “हम छह साल के लिए अबू धाबी शहर के टीसीए में थे। अल वाहदा मॉल हमारा पसंदीदा रहा है। हम बाद में मुसाफा चले गए और अब हम मज्याद मॉल में खरीदारी करते हैं। इस ड्रा में हमारे पास लगभग 80 कूपन थे।

वहीं इस दंपति के दो बच्चे हैं, जिनमें एक बेटा तमिलनाडु में इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा है और एक बेटी शहर के एक स्कूल की कक्षा 12 में पढ़ती है। वहीं उन्होंने ये भी बताया कि “मैं जीती हुई राशि का उपयोग अपने बच्चों की पढ़ाई के लिए करूंगा। मेरी इच्छा है कि मेरी बेटी एमबीबीएस करे। हम भी जरूरतमंदों की मदद करना चाहते हैं।

वहीं लुलु ग्रुप के मार्केटिंग एंड कम्युनिकेशंस के निदेशक वी।. नंदकुमार ने कहा, “मॉल मिलियनेयर अभियान की सफलता महामारी के बाद अर्थव्यवस्था में सुधार का प्रमाण है।”

गौरतलब है कि लूलू की तरफ ‘मॉल मिलेनियर’ का आयोजन दो साल के बाद हो रहा है। मेगा प्राइज के अलावा 25000 दिरहम की पुरस्कार राशि के कई वीकली प्राइज भी ग्राहकों के लिए रखे गए हैं।

ये भो पढ़ें – Gold Tips: सोना असली है या नकली, घर बैठे ऐसे करें मिनटों में पहचान: जानें क्या है आसान तरीका

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button